जश्न जारी है: Amrita Pritam

  ३१ तारीख इसका अमृता के जीवन पर बहुत असर रहा है .जैसे वह ३१ अगस्त को पैदा हुई ..३१ अक्तूबर को उन्होंने आखरी सांस ली ..और उनकी ही ज़िन्दगी से जुडा एक ३१ जुलाई १९३० और है .जब उनको ज़िन्दगी एक नए मुकाम पर खड़ी हुई होगी …..जिसके बारे में उन्होंने लिखा है  कोई ग्यारह बरस की थी जब एक दिन अचानक माँ ...

[Continue reading]

अतीत के झरोखों से #worldphotographyday

गहरे नीले सफेद आसमान को चूमती यह मीनारें और पास में ओढ़े  कर उसके पहलू में सिमटे हुए यह हरियाले रुपहले निशान इश्क होने की सब निशानियाँ कोई बेदिल ही होगा जो इस से इश्क नहीं कर पायेगा …..

[Continue reading]