भुजंगासन BHUJANGASAN for Migraine & face beauty

BHUJANGASAN

भुजंगासन BHUJANGASAN for Migraine & face beauty : यदि  आप (slip disk ) स्लिप डिस्क, गर्दन, रीढ़ की हड्डी, पीठ आदि का दर्द से पीडि़त हैं तो सर्पासन यानि भुजंगासन करें। यह आसन टांसिल व गले की मांसपेशियों को मजबूत करता है  भुजंगासन से आधे सिर के दर्द यानि माईग्रेन( migraine ) में भी लाभ होता है।

भुजंगासन करने  की विधि
किसी समतल और स्वच्छ स्थान पर कंबल या चटाई बिछा लें। अब पेट के बल लेट जाएं और दोनों पैरों को एक-दूसरे से मिलाते हुए बिल्कुल सीधा रखें। पैरों के तलवें ऊपर की ओर तथा पैरों के अंगूठे आपस में मिलाकर रखें। दोनों हाथों को कोहनियों से मोड़कर दोनों हथेलियों को छाती के बगल में फर्श पर टिका कर रखें। अब गहरी सांस लेकर सिर को ऊपर उठाएं, फिर गर्दन को ऊपर उठाएं, सीने को और  फिर पेट को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं।
सिर से नाभि तक का शरीर ही ऊपर उठना चाहिए तथा नाभि के नीचे से पैरों की अंगुलियों तक का भाग जमीन से समान रूप से सटा रहना चाहिए। गर्दन को तानते हुए सिर को धीरे-धीरे अधिक से अधिक पीछे की ओर उठाने की कोशिश करें। अपनी आंखें ऊपर की ओर रखें। यह आसन पूरा तब होगा जब आप के शरीर का कमर से ऊपर का भाग सिर, गर्दन और छाती सांप के फन के समान ऊंचा ऊठ जाएंगे।
पीठ पर नीचे की ओर नितम्ब और कमर के जोड़ पर अधिक खिंचाव या जोर मालूम पडऩे लगेगा। ऐसी अवस्था में आकाश की ओर देखते हुए कुछ सेकंड तक सांस रोकें। अगर आप सांस न रोक सकें तो सांस सामान्य रूप से लें। इसके बाद सांस छोड़ते हुए पहले नाभि के ऊपर का भाग, फिर छाती को और माथे को जमीन पर टिकाएं तथा बाएं गाल को जमीन पर लगाते हुए शरीर को ढीला छोड़ दें। कुछ देर रुकें और पुन: इस क्रिया को करें। इस प्रकार से भुजंगासन को पहले 3 बार करें और अभ्यास होने के बाद 5 बार करें।
इस आसन को करने से पहले सिर को पीछे ले जाकर 2 से 3 सेकेंड तक रुके और इसके अभ्यास के बाद 10 से 15 सेकेंड तक रुके।
भुजंगासन के लिए सावधानियां हर्निया के रोगी तथा गर्भवती स्त्रियों को यह आसन नहीं करना चाहिए।  यह आसन थोड़ा कठिन है अत: जल्दबाजी ना करें।
भुजंगासन से रोगों में लाभ
इस आसन से रीढ़ की हड्डी का तनाव दूर हो जाता है और रीढ़ से संबंधित परेशानियों को दूर हो जाती है। भुजंगासन बेडौल कमर को पतली तथा सुडौल व आकर्षक बनाता है। यह आसन सीना चौड़ा करता है, कद लम्बा करता है तथा बढ़े हुए पेट को कम करके मोटापे को दूर करता है। यह शरीर की थकावट को भी दूर करता है। इस Yoga आसन से शरीर सुंदर तथा कान्तिमय बनता है। महिलाओं के लिए भी Yoga  भुजंगासन बहुत ही लाभकारी आसन माना जाता है। यह आसन मासिकधर्म की अनियमितता, मासिकधर्म का कष्ट के साथ आना तथा प्रदररोग में फायदेमंद होता है इस आसन से महिलाओं का यौवन और सौंदर्य हमेशा बना रहता है।

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *