जीरा और हमारा स्वस्थ (indian spice box magic)

Cuminun जीरा स्वस्थ के लिए बहुत फायदेमंद है , हमारे भारत रसोईघर का तो यह सबसे महत्वपूर्व मसाला है . indian spice box का तो यह जादू का पिटारा है . जीरा किस तरह से लाभकारी है यह क्यों जरूरी है ,और यह कैसे स्वस्थ को फायदा पहुंचाता है , नीचे लिखे कुछ रोचक बातों से जानेंगे हम

जीरा क्या है ?

जीरा ऍपियेशी परिवार का एक पुष्पीय पौधा है। यह पूर्वी भूमध्य सागर से लेकर भारत तक की जगह में पैदा होता है । इसके प्रत्येक फल में स्थित एक बीज वाले बीजों को सुखाकर बहुत से खानपान व्यंजनों में साबुत या पिसा हुआ मसाले के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह दिखने में सौंफ की तरह होता है।  जीरे में कई तरह के गुण छुपे हुए हैं जिनसे आपकी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं दूर हो सकती हैं। जीरा काला, सफेद और मटमैले रंग में उपलब्ध होता है। जीरे के स्वास्थ्य संबंधी इसके अनोखे गुण  खाने का अहम हिस्सा बनाते हैं .पुराने  समय में यह रोमन, ग्रीक और मिस्र संस्कृति का भी खास हिस्सा था। इतना खास कि यह करंसी currency) के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था। जीरा शरीर के सभी अंगों के लिए बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है और इसके उपयोग से विभिन्न प्रकार के लाभ होते हैं। इसको अंगेरजी में Cuminum cyminum कहते हैं .इतिहास बताता है कि ईरान जीरे का सबसे बड़ा निर्यातक था मगर अब भारत, श्रीलंका, सिरिया, पाकिस्तान और टर्की प्रमुख स्रोत हैं। गुजरात का एक प्रांत उनझा जीरा का सबसे प्रसिद्ध बड़ा बाजार है। जीरा गरम जलवायु में पैदा होता है यहाँ तक कि सूखा भी सह सकता है। वसंत में बीज से अंकुर फूटता है और गर्मी के तीन-चार महीनें लग जाते हैं दो फीट लंबा पौधा बनने में और इसे हाथों से निकाला जाता है।

 

जीरा (cuminum) कितने प्रकार का होता है

जीरा दो  प्रकार का होता है ,एक सफेद ,एक काला ,सफेद घर के आम मसाले में इस्तेमाल होता है ,काला जीरा दवाई आदि में इस्तेमाल होता है . कभी-कभी शाही जीरा और साधारण जीरा को पहचानने में मुश्किल हो जाती है। शाही जीरा कुछ ज़्यादा काला होता है और मीठा होता है।यह सामान्य से कुछ ज्यादा पतला, सुतवां और विशिष्ट सुगंध लिए होता है।

जीरा लेने के फायदे

हमारे बजुर्ग कहा करते थे “जो खाये जीरा वो बनेगा हीरा”    हमारी दादी नानी तो बरसों से इस मसाले को न केवल खाना स्वादिष्ट बनाने के लिए बल्कि घरेलू उपचार में भी इसको उपयोग में लाती रही है .सुबह खाली पेट जीरे का सेवन करने से इंसान के शरीर की सभी बीमारियां जड़ से दूर हो जाती हैं।  अगर आप रात को खाना खाने के बाद आधा चम्मच भुना हुआ जीरा चबा कर उसके बाद पानी पीते हैं तो इससे ना केवल दिमाग स्वस्थ रहता है बल्कि शरीर भी तंदुरुस्त रहता है। साथ ही साथ दांत और मसूड़े भी मजबूत होते हैं इसलिए रोज रात को भुने हुए जीरे लेना चाहिए .जिनके   गले में खराश रहती है इसको दूर भागने के लिए भुना हुए जीरे का सेवन करने से यह ठीक हो जाती है .भुना हुआ जीरा रात को खाने से कब्ज और अपच दोनों दूर हो जातें हैं  . इसलिए सोने से पहले आधा चम्मच भुना हुआ जीरा पानी के साथ जरूर खाएं।

जीरे को अजवाइन हल्दी के साथ लेने के फायदे

जीरे को हल्दी ,अजवाइन ,के साथ सुबह इसकी चाय बना कर पीने से खाली पेट ,बहुत ही फायदा है .सारा दिन आप एक्टिव  रहते हैं .कुछ लोग रात में जीरा भिगो कर फिर अगले दिन सुबह इस पानी को उबाल कर छान कर  और हल्का गुनगुना करके खाली पेट पीते हैं
यह जीरे का पानी पेट में एसिड के असर को कम करता है, जीरे के पानी से रक्त संचार बना रहता है और मांसपेशियों के दर्द, मसल की एंठन से भी आराम आता है।जीरा का पानी आपके चेहरे के निखार को भी बनाये रखता है ,जब पेट साफ़ रहेगा तो चेहरा अपने आप ही चमकेगा :)जीरे के उबले पानी को फेसपेक की तरह लगाने से भी ग्लो आ जाता है .

जीरा और हमारा स्वस्थ

तो यह थे जीरा और हमारे स्वस्थ के लिए इसके फायदे . यह अपने भोजन में जरुर इस्तेमाल करें ,यह बहुत सी बिमारी से आपको बचा कर रखेंगे .

 

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *